योगदान देने वाला व्यक्ति

27 जून 2009

mere man y bata kyu??????

Us Ne Raat k Andherey Main

Merey Haath Ki Hatheli Pe

Likha Tha Apni Ungli Se

Mujhe Pyar Hy Tum Se

Jaaney Kesi Siyahi Thi Wo

K Mit'ti Bhi nahi Aur Dikhti Bhi Nahi ....


~ Parveen Shakir ~

4 टिप्‍पणियां:

Ravi Srivastava ने कहा…

Thank you very much for your valuable comments...keep in touch further....

आज मुझे आप का ब्लॉग देखने का सुअवसर मिला।
सचमुच में बहुत ही प्रभावशाली लेखन है... वाह…!!! वाकई आपने बहुत अच्छा लिखा है। आशा है आपकी कलम इसी तरह चलती रहेगी, बधाई स्वीकारें।

आप के द्वारा दी गई प्रतिक्रियाएं मेरा मार्गदर्शन एवं प्रोत्साहन करती हैं।
आप के अमूल्य सुझावों का 'मेरी पत्रिका' में स्वागत है...
Link : www.meripatrika.co.cc

…Ravi Srivastava

kavi kulwant ने कहा…

great...
jaane kaisi syahi thi.. bahut khoob.. ati sundar...

गर्दूं-गाफिल ने कहा…

hi niv

the four lines are sufficient to show the hight of your thoughts your talent sansebilty .

you are welcome to contribute the quality to blog world

welcome to my blog

Tej-s ने कहा…

wow nivi ji ... kya khoob kaha hmmm mind blowing hmmm :) lagta hai aapse bahut kuch sikhne ko milega hmm:)